कहीं जानलेवा ना बन जाएं हाईटेक हेल्मेट्स

कहीं जानलेवा ना बन जाएं हाईटेक हेल्मेट्स

नयी दिल्ली: ऑटोमोबाइल सेक्टर तेजी से ग्रोथ कर रहा है ऐसे में ऑटोपार्ट्स ( autoparts ) व ऑटो गियर्स बनाने वाली कंपनियां भी हाईटेक हो रही हैं. आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि हेलमेट बनाने वाली कंपनियां अब हेल्मेट्स को पहले से ज्यादा मजबूत व हाईटेक बनाने में लगी हुई हैं. दरअसल कंपनियां अब अपने हेल्मेट्स ( Helmet ) में म्यूजिक व कॉलिंग जैसे ऑप्शंस दे रही हैं. लेकिन शायद कंपनियों को ये बात समझ नहीं आ रही है कि ऐसे हेल्मेट्स बाइक राइडर्स के लिए जानलेवा साबित हो सकते हैं.

हेलमेट में दिया जा रहा है कॉलिंग सिस्टम

कई बार ऐसा होता है जब बाइक राइडर अपने Smart Phone अपने हेलमेट के अंदर फंसा लेते हैं व इसके बाद कॉल पर बात करते हैं या फिर म्यूजिक सुनते हैं. इसी समस्या के निवारण के लिए कंपनियां हेलमेट के अंदर पहले से ही ब्लूटूथ कॉलिंग सिस्टम दे रही हैं जिससे आप बड़ी सरलता से कॉल पर बात कर सकते हैं साथ ही इन हेल्मेट्स में आप सरलता से म्यूजिक भी सुन सकते हैं लेकिन क्या आप जानते हैं कि ये हेल्मेट्स राइडर की सेफ्टी के लिए बहुत ज्यादा खतरनाक साबित होने कि सम्भावना है.

एक्सीडेंट का बन सकता है कारण

आपको बता दें कि इन ब्लूटूथ हेल्मेट्स ( Blutooth helmet ) में म्यूजिक सुनना व वार्ता करना बेहद ही सरल है व ये इतना तेज होता है कि जब राइडर किसी से बात कर रहा होता है या फिर म्यूजिक सुन रहा होता है तब उसे हेलमेट के बाहर की आवाज़ सुनाई नहीं पड़ती है फिर चाहे वो कोई कार हो या फिर ट्रक व बस जैसा कोई वाहन. दोनों ही स्थिति में बाइक राइडर को पता नहीं चल पाता है कि आखिर पीछे की तरफ से कौन सा वाहन आ रहा है व इस स्थिति में बाइक राइडर एक्सीडेंट का शिकार होने कि सम्भावना है.

कई भारतीय व विदेशी कंपनियां इस तरह के हेल्मेट्स बना रही हैं व उनमें ब्लूटूथ कॉलिंग व म्यूजिक विशेषता को भी शामिल किया जा रहा है लेकिन ये विशेषता पहली नजर में बेहद यूजफुल नजर आते हैं लेकिन ये आपकी सुरक्षा से खिलवाड़ कर रहे हैं.