जाने क्या है फास्टैग, इन डॉक्युमेंट्स की होगी जरूरत

जाने क्या है फास्टैग, इन डॉक्युमेंट्स की होगी जरूरत

अगर आपने अभी तक अपनी गाड़ी पर फास्टैग (FASTag) नहीं लगवाया है तो घरबाने की आवश्यकता नहीं है। क्योंकि सरकार ने आपको एक महीने की राहत दी है। बता दें कि आज से नेशनल हाईवे (National Highway) के टोल प्लाजा (Toll Plaza) से गुजरने वाली चार पहिया वाहन पर FASTag लगाना जरूरी हो गया है। लेकिन सरकार ने लोगों को हो रही दिक्कतों को कम करने के लिए नेशनल हाईवे पर स्थित टोल

प्लाजाओं पर एक चौथाई FASTag लेन को एक महीने के लिए हाइब्रिड लेन बनाने की घोषणा की है। इन हाइब्रिड लेन में 15 जनवरी तक FASTag के साथ कैश से भी पेमेंट किया जा सकेगा।

केवल 30 दिनों के लिए मंजूरी- परिवहन मंत्रालय ने स्पष्ट किया कि यह अस्थाई तरीका है। इसे केवल 30 दिन के लिए मंजूरी दी गई है। लोगों को कोई परेशानी नहीं हो इसलिए यह कदम उठाया गया है। सरकार ने इससे पहले टोल प्लाजा से निकलने के लिए फास्टैग को जरूरी करने की समय-सीमा 15 दिसंबर तक बढ़ा दी थी।

क्या है फास्टैग?- यह एक तरह का इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन तकनीक (Electronic Toll Collection) है जो नेशनल हाईवे के टोल प्लाजा पर उपलब्ध है। यह तकनीक ) के प्रधानाचार्य पर कार्य करता है। इस टैग को वाहन के विंडस्क्रीन पर लगाया जाता है ताकि टोल प्लाजा पर उपस्थित सेंसर इसे रीड कर सके। जब कोई वाहन टोल प्लाजा पर फास्टैग लेन से गुजरती है तो ऑटोमैटिक रूप से टोल चार्ज कट जाता है। इसके लिए वाहनों को रुकना नहीं पड़ता है। एक बार जारी किया गया फास्टैग 5 वर्ष के लिए एक्टिवेट रहता है। इसे बस समय पर रिचार्ज करना पड़ता है।   आपको कैसे मिलेगा फास्टैग?- अपने वाहन के लिए फास्टैग खरीदना बड़ा ही सरल है। नयी गाड़ी खरीदते समय ही डीलर से आप फास्टैग प्राप्त कर सकते हैं। वहीं, पुरानी वाहनों के लिए इसे नेशनल हाईवे के प्वाइंट ऑफ सेल से खरीदा जा सकता है। इसके अतिरिक्त फास्टैग को प्राइवेट सेक्टर के बैंकों से भी खरीद सकते हैं। इनका टाइअप नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया से होता है। इनमें सिंडिकेट बैंक, Axis बैंक, IDFC बैंक, HDFC बैंक, भारतीय स्टेट बैंक बैंक, व ICICI बैंक से प्राप्त कर सकते है। आप चाहें तो Paytm से भी फास्टैग खरीद सकते हैं।

डॉक्युमेंट्स की होगी जरूरत- अगर आप किसी प्वाइंट ऑफ सेल (POS) से फास्टैग खरीद रहे हैं तो आप कुछ डॉक्युमेन्ट्स देने होंगे। आपको इन डॉक्युमेन्ट्स की ओरिजिनल कॉपी भी साथ में ले जानी होगी ताकि वेरिफाई किया जा सके। इनमें वाहन का रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट यानी आरसी, वाहन मालिक का पासपोर्ट साइज फोटो व केवाईसी डॉक्युमेन्ट्स होना चाहिए। इनमें आप ड्राइविंग लाइसेंस, पैन कार्ड, पासपोर्ट, वोटर आईडी कार्ड या आधार कार्ड शामिल होने कि सम्भावना है। डॉक्युमेन्ट्स की जरूरतें इस बात पर भी निर्भर करती है कि आपका वाहन प्राइवेट या कॉमर्शियल है।

 ये है प्रयोग करने का तरीका- सबसे पहले तो फास्टैग के लिए आपको प्लास्टिक कवरिंग उतारकर इसे वाहन के विंड स्क्रीन पर लगाना होगा। पहली बार प्रयोग कर रहे यूजर्स को इसे अपने औनलाइन वॉलेट से लिंक करना होगा। इसके लिए उन्हें उस बैंक के वेबसाइट पर जाना होगा जिनसे फास्टैग खरीदा गया है। उसके बाद दिए गए स्टेप को अनुसरण करने के बाद प्रयोग किया जा सकता है। इस वॉलेट को औनलाइन रिचार्ज किया जा सकता है। फास्टैग एकाउंट से हर बार पैसे कटने के बाद इसका एक एसएमएस अलर्ट भी आएगा।

फास्टैग से आपको क्या होगा फायदा- फास्टैग प्रयोग करने का सबसे बड़ा लाभ ये है टोल प्लाजा पर लंबी लाइने नहीं लगानी पड़ती है। साथ ही पेमेंट की सहूलियत की वजह से किसी को नकदी साथ में रखने की आवश्यकता नहीं होती। टोल प्लाजा पर पेपर का प्रयोग भी कम होता है। लेन में वाहनों की लंबी लाइने कम होने की वजह से प्रदूषण भी कम होता है। फास्टैग के प्रयोग पर कई तरह का कैशबैक और अन्य ऑफर भी मिलता है।