नेपाल के नए नक्शे के पीछे कूटनीतिक जानकार चाइना, हिंदुस्तान के साथ उठाए यह बड़े कदम

नेपाल के नए नक्शे के पीछे कूटनीतिक जानकार चाइना, हिंदुस्तान के साथ उठाए यह बड़े कदम

नेपाल के नए नक्शे के पीछे कूटनीतिक जानकार चाइना की किरदार देख रहे हैं. माना जा रहा है कि चाइना के असर में ही नेपाल ने हिंदुस्तान के साथ अरसे पुरानी सहमति से अलग हटकर कदम उठाया है. जानकार मानते हैं कि हिंदुस्तान को नेपाल पर अपना ध्यान बढ़ाना होगा. अपने डिलीवरी सिस्टम को दुरुस्त करके पुराने मित्र 


देश की आशंकाओं को दूर करना होगा. उसकी जरूरतों को पूरा करने के लिए वाकई में उस तरह बड़े भाई का भूमिका निभाना होगा, जैसा वायदा पूर्व की सरकारों ने किया था.

पूर्व विदेश सचिव शशांक ने बोला कि नेपाल के साथ बड़े भाई, छोटे भाई का पुराना रिश्ता बनाए रखने के लिए नेपाल को यह भरोसा देने की आवश्यकता है कि हम उनकी जरूरतो को पूरा करने में सक्षम हैं. उन्होंने कहा, नेपाल में कम्युनिस्ट पार्टी की प्रो चाइना नीति को हम समय से नहीं समझ पाए. हमने सोचा कि उनके यहां कम्युनिस्ट गांधीवादी हैं. जबकि नेपाल में कम्युनिस्ट पार्टी की सरकार ये धारणा लोगों के बीच बनाती रही कि चाइना उनकी जरूरतो को पूरा करने में सक्षम है. हिंदुस्तान को चाहिए कि अगर चाइना वहां एक रेल परियोजना लेकर जाना चाहता है तो हम कई योजनाएं लेकर जाएं व उन्हें समय से पूरा करें.

पूर्व विदेश सचिव ने कहा, डिलीवरी हमारी कमजोरी रही है व इसका फायदा चाइना हमारे पड़ोस में उठाने का कोशिश कर रहा है. शशांक ने बोला कि हमें तय मैकेनिज्म के जरिए बात करनी चाहिए. 

नेपाल को समझाना चाहिए कि कालापानी के इलाके में हिंदुस्तान ने किसी सहमति को नही तोड़ा है. बीते कुछ वर्षों में नरम-गरम रिश्तों से अलग हटकर नेपाल के साथ भरोसा विकसित करने के लिए कई कदम उठाने पड़ेंगे. पूर्व विदेश सचिव ने कहा, कालापानी नदी का किनारे का क्षेत्र हमेशा हिंदुस्तान के पास रहा है. दोनो देश इस मामले पर लगातार वार्ता करते रहे हैं. उन्होंने बोला चाइना हिंदुस्तान पर दबाव बनाने के लिए अपनी गो वेस्ट नीति का भी प्रयोग कर रहा है. इससे हमें सतर्क रहने की आवश्यकता है.