बीजेपी सदर विधायक पंकज गुप्ता सदर ने उन्नाव पुलिस के विरूद्ध लगाए यह बड़े नारे

बीजेपी सदर विधायक पंकज गुप्ता सदर ने उन्नाव पुलिस के विरूद्ध लगाए यह बड़े नारे

 उन्नाव पुलिस के विरूद्ध बीजेपी सदर विधायक पंकज गुप्ता सदर कोतवाली में रात करीब 2 बजे धरने पर बैठ गए। विधायक का आरोप है कि पुलिस समाजवादी पार्टी की मानसिकता से कार्य कर रही है व सभ्रांत नागरिकों के साथ-साथ बीजेपी कार्यकर्ताओं से भी लगातार अभद्र व्यवहार कर रही है। 

इस दौरान सदर विधायक के समर्थकों ने उन्नाव पुलिस मुर्दाबाद व चोर पुलिस के नारे भी लगाए। विधायक का गुस्सा इस बात पर भी था कि रात 2 बजे से प्रातः काल तक वे धरने पर बैठे रहे व उन्नाव के एसपी ने यहां आने तक की आवश्यकता नहीं समझी। हालांकि बाद में डीएम जरूर मौके पर पहुंचे व जाँच के आश्वासन के बाद धरना समाप्त कराया।  

मंदिर टकराव में बुजुर्गों को थाने लाई पुलिस, भड़के विधायक 
सदर कोतवाली के मोहल्ला हिरन नगर में एक मंदिर निर्माण को गैरकानूनी बताकर पुलिस 8 से ज्यादा बुजुर्ग लोगों को कोतवाली ले आई। भाजपा सदर विधायक पंकज गुप्ता ने मुद्दे में CO से फोन पर बात की व बुजुर्गों के विरूद्ध कारवाई न करके मुद्दे की निष्पक्ष जाँच की बात कही। विधायक का आरोप है कि इसके बावजूद पुलिस ने कोतवाली में बुजुर्गों के साथ अमानवीय व्यवहार किया। जब इसकी जानकारी पंकज गुप्ता को लगी तो वे देर रात करीब 1 बजे उन्नाव सदर कोतवाली पहुंच गए। विधायक का आरोप है कि यहां आकर भी उन्नाव पुलिस का उनके साथ व्यवहार अच्छा नहीं था। ऐसे में पंकज गुप्ता अपने कुछ समर्थकों के साथ सदर कोतवाली गेट के सामने धरने पर बैठ गए। उन्होंने संभ्रांत नागरिकों व भाजपा कार्यकर्ताओं से अभद्रता करने का आरोप भी लगाया।  

CO व ASP ने नहीं संभले हालात 
सीओ सिटी व एएसपी नॉर्थ वीके पांडेय मौके पर पहुंचे, लेकिन विधायक से बात नहीं बनी। विधायक को इस बात पर भी कोफ्त थी कि उन्नाव एसपी रोहन पी कनाय मौके पर नहीं पहुंचे। इधर विधायक समर्थकों की नारेबाजी के बाद कोतवाली परिसर में कई थानों की फोर्स के साथ ही भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया। विधायक पंकज गुप्ता दोषी अधिकारियों के विरूद्ध कार्रवाई की मांग को लेकर अड़े हुए हैं।  

सुबह 5 बजे तक चला धरना प्रदर्शन 
विधायक व उनके समर्थकों का धरना प्रदर्शन प्रातः काल पांच बजे तक चला। जब डीएम व एसएसपी ने दोषियों पर कार्रवाई का आश्वासन दिया, तब जाकर विधायक ने धरना समाप्त किया। डीएम रविंद्र कुमार ने बताया कि मंदिर बनाने पर टकराव था, जिसमें कुछ लोगों पर मुद्दा दर्ज किया गया है। मुद्दे में विधायक का बोलना है कि इन लोगों के साथ हाथापाई हुई है व मेडिकल कराने की मांग की गई है। उन्होंने बोला कि इस प्रार्थना लेटर पर जो भी कार्रवाई होगी, वो की जाएगी।